May 23, 2024 2:44 am
Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

हमारा ऐप डाउनलोड करें

मांगें तो क्या मांगे भगवान् से…

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

*मांगें तो क्या मांगे भगवान् से…*

भगवान् से माँगने के सम्बन्ध में एक कथा आती है कि एक बार भगवान् कृष्ण अर्जुन को साथ लेकर घूमने निकले। जाते-जाते घने जंगल में जा पहुँचे। कुछ और आगे बढ़े तो वहाँ पर सुनसान मैदान आ गया, कोई पेड़-पौधा नहीं। ग्रीष्म ऋतु थी, बड़ी गरम हवा चल रही थी। अर्जुन को तीव्र प्यास लगी, लेकिन कहीं पानी दिखायी नहीं दे रहा था। उन्होंने भगवान से अपने प्यास की बात बतायी तो भगवान ने कहा कि पता लगाओ। तलाशने पर जब दूर एक झोपड़ी दिखायी दी तो अर्जुन को वहाँ जाने के लिये कहा। अर्जुन ने वहाँ जाकर देखा कि एक संन्यासिनी, तपस्विनी, वृद्धा माँ बैठी है और उसके पास पानी का घड़ा रखा है। अर्जुन के जानमें जान आयी। वे संन्यासिनी से अनुमति लेकर जल पीकर तृप्त हो गये। अर्जन जब पानी पीकर स्वस्थ हो गये तब देखते हैं कि कुटिया में खूँटी पर एक नंगी तलवार लटक रही है। अर्जुन ने मन-ही-मन सोचा कि अस्सी वर्ष की अवस्थावाली तपस्विनी बुढ़िया ने अपने पास तलवार क्यों टांग रखी है ? संदेह निवारणार्थ उन्होंने पूछ ही लिया कि “मइया ! तूने यह तलवार क्यों टांग रखी है ? इसका क्या प्रयोजन ?” इस पर वह गुस्से में आकर बोली, “तुम जानना चाहते हो तो सुनो, इसे इसलिये टांग रखा है कि यदि अर्जुन और द्रौपदी मिल जायें तो उनके सिर काट लें।” अर्जुन अवाक् रह गये और भयभीत भी हुए परन्तु अपने को छिपाकर बड़ी विनम्रतासे पूछा कि, “माँ ! अर्जुन और द्रौपदी ने तुम्हारा क्या कसूर किया ? ऐसा कौन-सा अपराध हो गया कि तुम जैसी तपस्विनी उन दोनों का वध करने को तैयार हो ?” वृद्धा माँ ने उत्तर दिया कि, “तुम नहीं जानते किन्तु द्रौपदी ने बहुत बड़ा अपराध किया है। उसने मेरे स्वामी भगवान् को अपनी साड़ी बनायी और वह भी रजस्वला की साड़ी। संसार में सभी नंगे पैदा होते हैं, वह भी नंगे मर जाती परन्तु उसने क्यों मेरे भगवान् को रजस्वला की साड़ी बना दिया ? इतना बड़ा अपराध है। उसका कि यदि वह मुझे मिल जाये तो उसे मार डालें। फिर अर्जुन ने कहा, “माँ, तुम्हारी यह बात ठीक हैं परन्तु अर्जुन ने क्या अपराध किया ?” फिर, वृद्धा माँ ने उत्तर दिया कि अर्जुन उससे बड़ा अपराधी है। जिनकी पूजा करनी चाहिये उनसे घोड़े चलवाये। जिनको अर्घ्य देना चाहिये या जिनके चरणों में बैठकर सेवा करनी चाहिये, उस भगवान् को अपना सारथी बनाया। उनके हाथों में चाबुक और लगाम दे दी। इसलिये वह भी अपराधी है। अर्जुन ने समझ लिया कि माई तो ठीक कहती है और फिर चुपचाप भगवान् कृष्ण के पास आकर सारा वृत्तान्त सुनाया। भगवान् ने कहा, “तुम्हीं सोचो, क्या ठीक है ? हम तो तुम्हारे हैं ही।”
इसलिये भगवान् से सामान्यत: कुछ न चाहें परन्तु हाँ, एक बड़ी सुन्दर बात को याचना भाव से, भगवान् को आत्मसमर्पित करके कुछ कह दे कि-“नाथ ! बस, तुम्हारी इच्छा पूरी हो।”
🙏🏻🌹 जय जय श्री राधे 🌹🙏🏻

गिरीश
Author: गिरीश

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

[wonderplugin_slider id=1]

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

error: Content is protected !!
Skip to content