May 29, 2024 12:08 pm
Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

हमारा ऐप डाउनलोड करें

इन आठ आदतों का पालन करने से हर हिंदू के जीवन में एक जादुई परिवर्तन आएगा ||

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

इन आठ आदतों का पालन करने से हर हिंदू के जीवन में एक जादुई परिवर्तन आएगा ||

1. तिलक लगाना- हिंदू सनातन धर्म में एक महत्वपूर्ण प्रतीक तिलक संस्कृत शब्द “तिल” से उत्पन्न हुआ है, जो तिल का प्रतीक है। यज्ञ (पवित्र अनुष्ठान) और परोपकार के कार्यों में तिल का बहुत महत्व है। माथे पर तिलक लगाना इस विश्वास पर आधारित है कि यह एक केंद्रबिंदु है जिसके द्वारा व्यक्ति दिव्यत्व से जुड़ सकता है, जिससे व्यक्ति का आध्यात्मिक स्वभाव बढ़ता है।
जिस स्थान पर पारंपरिक रूप से निशान लगाया जाता है उसे अजना चक्र कहा जाता है, जो भौंहों के बीच स्थित है। हिंदू धर्म के भीतर, इस बिंदु को व्यापक रूप से मनुष्य के प्रवेश और निकास बिंदु के रूप में माना जाता है। वैज्ञानिक दृष्टिकोण से, अजना चक्र क्षेत्र को अक्सर सोच, एकाग्रता और स्मृति के केंद्र के रूप में पहचाना जाता है। यह वह क्षेत्र भी है जो तनाव और तनाव के समय गर्म हो जाता है। तिलक लगाने से चंदन लगाने से शीतल प्रभाव प्राप्त होता है जिससे एकाग्रता की सुविधा मिलती है।

2. अग्नि स्नान- अग्नि का अर्थ है अग्नि, अग्निदेव इंद्र के जुड़वा भाई हैं और 2 मुख हैं। ऋग्वेद में अग्निदेव को हर देवता का मुख माना गया है।
अग्नि जिसे पावका भी कहते हैं अर्थात जो भी अग्नि में प्रवेश करता है वह शुद्ध हो जाता है। अग्नि स्नान का मतलब अग्नि से असली स्नान नहीं है।
अग्नि स्नान जल स्नान की तरह अपनी आभा को साफ करने का एक तरीका है। यह आपके अंदर की सभी नकारात्मकता को दूर कर सकता है। प्राचीन काल में यह एक बहुत ही प्रमुख प्रथा थी। आज, कई अग्नि स्नान का अर्थ सती का अभ्यास है। हालांकि, यह प्रक्रिया कपूर का उपयोग करके अपने शरीर (सर से लेकर पैर तक) की आरती करने के समान है। सामान्य स्नान करते ही इसका पालन करना चाहिए और बहुत हल्के कपड़े पहनने चाहिए। बाद के प्रभाव जादुई हैं। यह वास्तव में एकाग्रता के साथ बहुत अच्छा काम करता है।

3. कपूर जलाना- हिंदू मान्यता के अनुसार कपूर जलाना देवी-देवताओं से प्रार्थना करने से पहले पर्यावरण को साफ करने की प्रक्रिया है। कपूर जलने से प्रकाश और सुगंध मिलता है, दोनों आध्यात्मिकता से जुड़ा हुआ है। कपूर बिना कोई अवशेष छोड़े खुद को पूरी तरह से जला देता है। यह हमारे वासन (अहंकार, वासना, लालच) का प्रतिनिधित्व करता है। कपूर का दहन भगवान के साथ एकता और ज्ञान का प्रकाश फैलाना भी दर्शाता है।
वैज्ञानिक रूप से बोलने वाला कपूर कीटाणु मारने में सहायक होता है। अपने घर के आसपास की हवा को शुद्ध करने का यह भी एक बेहतरीन तरीका है। नियमित रूप से कपूर जलाना हमारे घर के रोगाणुओं को मारने का एक प्रभावी तरीका है।
इसके अलावा, कपूर में जीवाणुरोधी, एंटीफंगल, और एंटी-इंफ्लेमेटरी के गुण होते हैं और इसलिए इसका उपयोग त्वचा की स्थितियों का इलाज करने, श्वसन कार्य में सुधार करने और दर्द से राहत देने के लिए किया जाता है।

रोज रोज दो बार जला कर देखिए अपने स्टडी रूम या ऑफिस में तीन दिन में फर्क नज़र आएगा

4. ध्यान योग करते हुए – ठीक है, एक कागज का टुकड़ा अपने पूरे बढे हुए हाथ में पकड़ो। कुछ ही मिनटों में आपके हाथ में दर्द होने लगेगा और कागज का वो छोटा सा टुकड़ा 5 किलो डम्बेल जैसा महसूस करेगा। अगर हमारा हाथ कुछ मिनटों के लिए भी कागज का एक छोटा टुकड़ा नहीं पकड़ सकता तो सोचो हमारे दिमाग की स्थिति क्या है जो नींद के समय भी काम करता रहता है। ध्यान योग बहुत सारे अच्छे काम कर सकता है लेकिन सबसे पहली चीज जो यह करता है वह हमारे दिमाग को आराम देता है। यह आपकी एकाग्रता में वृद्धि करेगा और आपको किसी भी स्थिति से निपटने में मदद करेगा।

5. भगवद गीता के 5 श्लोक प्रतिदिन पढ़ना- भगवद गीता को ज्ञान का शाश्वत स्रोत कहा गया है क्योंकि इसमें चारों वेद का सार है। यकीन मानिए आपको बहुत कुछ पता चल जाएगा और आप अपनी जिंदगी की किसी भी समस्या को हल कर पाएंगे। यह योग का विज्ञान भी सिखाता है, स्वस्थ जीवन जी रहा है।

6. सप्ताह में कम से कम एक बार मंदिर जाना- एक मंदिर जो देवताओं की पूजा में शास्त्रों के दिशानिर्देशों का पालन करता है आध्यात्मिक प्रगति के लिए अधिक अनुकूल वातावरण प्रदान करता है। ऐसे मंदिर स्वच्छ और आध्यात्मिक वातावरण बनाए रखते हैं क्योंकि उनका एकमात्र उद्देश्य देवी पूजा और अन्य आध्यात्मिक गतिविधियों को सुविधाजनक बनाना है। यह ध्यान देने योग्य है कि भक्ति के एक उन्नत चरण में, जब हमारा दिल गहरी श्रद्धा से भरा होता है, तो हम हर जगह पवित्रता का अनुभव कर सकते हैं और सभी स्थानों पर हमारे पूजनीय देवी-देवताओं की उपस्थिति का अनुभव कर सकते हैं।
हालांकि, धारणा की यह उच्च स्थिति आम व्यक्तियों के बीच आम नहीं है, बल्कि उन लोगों द्वारा प्राप्त की गई है जो आध्यात्मिक प्रगति के उच्च स्तर पर पहुंच गए हैं। मंदिर जाते हो तो चेतना को बढ़ाता है और आत्म बोध के करीब लाता है। यदि दैनिक जाना अव्यावहारिक है तो इसे साप्ताहिक या अन्य उपयुक्त आवधिक यात्रा बनाएं।

7. मंत्र का जाप- किसी भी मंत्र का नियमित जाप करने से आपके जीवन में जादू हो सकता है। आप किसी भी मंत्र का जाप करें, लेकिन नियमित रूप से करें। मंत्र का जाप अपने आप को ब्रह्मांड से जोड़ने का सबसे आसान तरीका है। सबसे अच्छा हिस्सा है, यह आपको अवसाद और अधिक सोचने के युग में भी खुश और आनंदमय स्थिति में रखेगा।

8. प्रकृति का ध्यान रखना- प्रकृति की उपासना हिंदू धर्म की एक प्रमुख शिक्षाओं में से एक है। पौधों को पानी पिलाना, गाय, पक्षियों को खाना खिलाना आपके पिछले जन्म के बुरे कर्म से बचा सकता है।
यह रचना मेरी नहीं है मगर मुझे अच्छी लगी तो आपके साथ शेयर करने का मन हुआ।🙏🏻

गिरीश
Author: गिरीश

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

[wonderplugin_slider id=1]

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

error: Content is protected !!
Skip to content