June 18, 2024 9:21 pm
Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

हमारा ऐप डाउनलोड करें

क्या आप ईश्वर में विश्वास करने के कारण चमत्कार की उम्मीद करते हैं?*

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

🚩🌺🚩🌺🚩🌺🚩🌺🚩🌺

*🚩🌺क्या आप ईश्वर में विश्वास करने के कारण चमत्कार की उम्मीद करते हैं?*

🚩🌺🚩🌺🚩🌺🚩🌺🚩🌺

*🚩🌺आप ईश्वर पर विश्वास क्यों करते हैं?*

*🚩🌺आपने अक्सर लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि, “मैं भगवान/गुरु (जो दिव्यता का अवतार हैं) पर तभी विश्वास करूँगा जब वे मेरे जीवन में कोई चमत्कार करेंगे!” लेकिन,= अध्यात्म के बारे में ऐसी धारणा रखने वाले लोगों को यह समझना चाहिए कि अध्यात्म हमारा मनोरंजन या मन बहलाने के लिए नहीं है। अगर कोई वास्तव में अध्यात्म का अनुयायी है, तो उसे चमत्कारों के बजाय ईश्वर की तलाश करनी चाहिए। आखिरकार, सच्चे जिज्ञासु चमत्कार-चाहने वाले नहीं, बल्कि ईश्वर-चाहने वाले होते हैं! इसलिए, ईश्वर के प्रत्यक्ष अनुभव की तलाश करने के बजाय, आप ईश्वर से चमत्कारी कहानियों की तलाश करते हैं। ऐसे लोग अक्सर अध्यात्म को बासी और बेकार करार देते हैं, जब वे अपने जीवन में कोई चमत्कारी प्रदर्शन देखने में असफल होते हैं।*

*🚩🌺ईश्वर के लिए सच्ची लालसा*

*🚩🌺इसके विपरीत, जो लोग वास्तव में ईश्वर के लिए तरसते हैं, वे अपने जीवन में किसी चमत्कार पर भरोसा नहीं करते। आध्यात्मिकता की नींव आपके आध्यात्मिक हृदय के आंतरिक कक्षों में ईश्वर के अनुभव पर आधारित होनी चाहिए, न कि चमत्कारों पर जो आपको चकित और अवाक कर देते हैं। लेकिन, यह भी सच है कि ईश्वर और उनके अवतार ऐसी चीजें घटित करते हैं जो मानव बुद्धि के दायरे से परे होती हैं और जिन्हें देखने वाले चमत्कार कहते हैं।*

*🚩🌺चमत्कार घटित होते हैं!*

*🚩🌺इतिहास के पन्नों पर ऐसे एक-दो नहीं, अनेकों प्रसंग दर्ज हैं, जो पूर्ण गुरुओं या ज्ञानी महात्माओं द्वारा किए गए, जिन्होंने लोगों को चकित कर दिया। उदाहरण के लिए, श्री कृष्ण ने अपनी छोटी उंगली पर पूरा गोवर्धन पर्वत उठा लिया; संत कबीर ने एक मछली से सुई निकलवाकर नदी से निकलवाई; गुरु नानक देव जी द्वारा दो रोटियों को अपने हाथों में दबाने पर उनसे रक्त (जो अत्याचारियों द्वारा चूसे गए गरीब लोगों के रक्त का प्रतीक है) और दूध (जो सच्चे लोगों की कड़ी मेहनत का प्रतीक है) की धाराएं बह निकलीं; संत ज्ञानदेव ने दीवार खिसका दी; मूसा को लोगों के साथ जब पानी पार करना पड़ा, तो पानी दो भागों में बंट गया, आदि।*

*’🚩🌺चमत्कारों’ के बारे में वैज्ञानिक क्या कहते हैं?*

*🚩🌺अपनी पुस्तक ‘द लिमिट्स ऑफ साइंस’ में नोबेल पुरस्कार विजेता पीटर मेडावर लिखते हैं: “विज्ञान की एक सीमा है, यह बहुत संभव है क्योंकि ऐसे प्रश्न हैं जिनका उत्तर विज्ञान नहीं दे सकता और विज्ञान की कोई भी कल्पनीय प्रगति उसे उत्तर देने में सक्षम नहीं बना सकती… इसलिए, हमें विज्ञान की ओर नहीं, बल्कि तत्वमीमांसा या धर्म की ओर रुख करना चाहिए, जहाँ हमें पहले और अंतिम चीज़ों से जुड़े प्रश्नों के उत्तर मिल सकें।” चमत्कारों के अस्तित्व की संभावना की निंदा करते हुए, इमैनुअल कांट तर्क देते हैं: चमत्कार या तो रोज़ होते हैं, कभी-कभार या कभी नहीं। लेकिन, जो रोज़ होता है वह चमत्कार नहीं है क्योंकि यह प्राकृतिक नियमों के अनुसार नियमित रूप से होता है। और जो कभी-कभार होता है वह किसी भी नियम से निर्धारित नहीं होता; जबकि, सभी वैज्ञानिक ज्ञान को व्यावहारिक कारण से निर्धारित किया जाना चाहिए जो सार्वभौमिक नियमों पर काम करता है। इसलिए, हमारे लिए यह निष्कर्ष निकालना तर्कसंगत रूप से आवश्यक है कि चमत्कार कभी नहीं होते।*

*’🚩🌺चमत्कार’ के बारे में तर्कवादी क्या कहते हैं?*

*🚩🌺ह्यूम, एक स्कॉटिश दार्शनिक और निबंधकार जो विशेष रूप से अपने दार्शनिक अनुभववाद और संदेहवाद के लिए जाने जाते हैं, तर्क देते हैं- मान लीजिए कि हमारे पास एक चमत्कारी घटना के घटित होने पर विचार करने के लिए अच्छे सबूत हैं, और हम इसकी जांच करते हैं और इसके लिए कोई प्राकृतिक कारण नहीं ढूंढ पाते हैं। फिर भी हम यह निष्कर्ष नहीं निकाल सकते कि कोई चमत्कार हुआ था। कारण यह है कि ऐसे मामलों में, तर्कसंगतता का क्षेत्र केवल दो विकल्पों को जगह देता है: इस दावे को अस्वीकार करें कि घटना घटित हुई थी या इसके लिए प्राकृतिक कारण की तलाश करें। हालांकि, धर्म के दार्शनिक और वेस्ट वर्जीनिया विश्वविद्यालय में प्रोफेसर एमेरिटस थियोडोर एम। ड्रेंज कहते हैं, “चमत्कार” की परिभाषा को थोड़ा बदलने की आवश्यकता होगी। यह कहने के बजाय कि चमत्कार प्रकृति के नियमों का उल्लंघन करते हैं, हमें यह कहना होगा कि चमत्कार प्राकृतिक क्षेत्र से बाहर हैं… वे वास्तव में प्रकृति के नियमों का उल्लंघन नहीं करते हैं, क्योंकि प्रकृति के नियम केवल प्राकृतिक क्षेत्र के भीतर की घटनाओं का वर्णन करते हैं।”*

*🚩🌺अध्यात्म में चमत्कारों की भूमिका*

*🚩🌺यह सही है कि आध्यात्मिक रूप से उन्नत योगी और प्रबुद्ध गुरुओं के पास ऐसी शक्तियाँ होती हैं, जिनके द्वारा वे ऐसी घटनाएँ प्रस्तुत कर सकते हैं, जो प्राकृतिक नियमों के दायरे से बाहर हैं। लेकिन, ऐसा करने के पीछे उनका उद्देश्य लोगों को खुश करना, भीड़ जुटाना या प्रसिद्धि प्राप्त करना नहीं होता। बल्कि, बार-बार ऐसे चमत्कारी प्रसंग, जो सभी तर्कों और व्याख्याओं को निरर्थक बना देते हैं, उन भटके हुए और घुटे हुए लोगों को सत्य की याद दिलाने के लिए होते हैं, जो सर्वोच्च शक्ति, सर्वशक्तिमान ईश्वर के अस्तित्व को नकारते हैं। वास्तव में, ऐसी घटनाएँ न केवल नास्तिकों के लिए अपनी राय सुधारने का आह्वान हैं, बल्कि वे उन सभी लोगों के लिए शाश्वत सत्य की खोज की प्रेरणा भी हैं, जो ईश्वर के नाम पर स्वनिर्मित रीति-रिवाजों और प्रथाओं के जाल में उलझे रहने का विचार रखते हैं।*

*🚩🌺चमत्कारों में सभी विवादों को समाप्त करने की कुंजी*

*🚩🌺चमत्कारों के बारे में विभिन्न धारणाओं के बारे में जानने के बाद, सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या कोई ऐसा रास्ता है, कोई ऐसा मंच है, जहाँ चमत्कारों पर सभी विवाद समाप्त हो सकें? जहाँ चमत्कारों के सभी क्यों और कैसे के बारे में स्पष्ट समझ प्राप्त हो सके? हाँ, ऐसा है! चमत्कारों के बारे में धारणाओं में सभी तर्क और टकराव तब समाप्त हो जाते हैं जब व्यक्ति को ज्ञान चक्षु प्राप्त हो जाता है। दिव्य चक्षु या तीसरा नेत्र तब खुलता है जब व्यक्ति ब्रह्मज्ञान के शाश्वत ज्ञान में दीक्षित हो जाता है। यह चक्षु, जब समय के पूर्ण सद्गुरु द्वारा प्रदान किया जाता है, तो वास्तव में व्यक्ति की धारणा में एक बड़ा परिवर्तन लाता है, उसे उच्च दृष्टिकोण की ओर ले जाता है। कैसे? क्योंकि तब, पेड़ से सेब को गिरते हुए देखने पर, हमारी बुद्धि उस नियम तक सीमित रहने के लिए प्रेरित नहीं होती जो सब कुछ जमीन पर खींचता है। इसके बजाय, हम अधिक महत्वपूर्ण बिंदु पर चिंतन करते हैं, यानी उस बल को उजागर करना जो गुरुत्वाकर्षण बल के बावजूद सेब को अपनी शाखा से जोड़े रखता है!*

🚩🌺🚩🌺🚩🌺🚩🌺🚩🌺

गिरीश
Author: गिरीश

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

[wonderplugin_slider id=1]

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

error: Content is protected !!
Skip to content