May 23, 2024 2:32 am
Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

हमारा ऐप डाउनलोड करें

घटस्थापना का शुभ मुहूर्त 2024  चैत्र नवरात्रि पर कल सुबह इतने बजे तक घटस्थापना का शुभ मुहूर्त, 30 साल बाद बनेगा बड़ा शुभ योग

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

घटस्थापना का शुभ मुहूर्त 2024 

चैत्र नवरात्रि पर कल सुबह इतने बजे तक घटस्थापना का शुभ मुहूर्त, 30 साल बाद बनेगा बड़ा शुभ योग

 

 

 चैत्र नवरात्रि पर पूरे 30 साल बाद अमृत सिद्धि योग, सर्वार्थ सिद्धि योग, शश योग और अश्विनी नक्षत्र का अद्भुत संयोग बनने वाला है. इस दिन अमृत सिद्धि योग और सर्वार्थ सिद्धि योग 9 अप्रैल को सुबह 07 बजकर 32 मिनट से प्रारंभ होंगे और यह अगले दिन सुबह 05 बजकर 06 मिनट तक

 

चैत्र नवरात्रि 9 अप्रैल से शुरू होने जा रहे हैं और इसका समापन 17 अप्रैल को महानवमी के साथ होगा. चैत्र नवरात्रि मां दुर्गा को समर्पित है. कहते हैं कि इन पवित्र दिनों में देवी की विधिवत उपासना से मनचाहा वरदान पाया जा सकता है. इस साल चैत्र नवरात्रि में पूरे 9 दिन के व्रत रखे जाएंगे. इस दौरान 16 अप्रैल को महाष्टमी का कन्या पूजन होगा. और 17 अप्रैल को महानवमी पर कन्या पूजन के साथ नवरात्रि समाप्त हो जाएंगे. इस बार चैत्र नवरात्रि पर 30 वर्ष बाद एक बड़ा ही शुभ संयोग भी बनने वाला है. आइए आपको ये शुभ संयोग और घटस्थापना का मुहूर्त बताते हैं.

 

 

ज्योतिष गणना के अनुसार, चैत्र नवरात्रि पर पूरे 30 साल बाद अमृत सिद्धि योग, सर्वार्थ सिद्धि योग, शश योग और अश्विनी नक्षत्र का अद्भुत संयोग बनने वाला है. इस दिन अमृत सिद्धि योग और सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 07 बजकर 32 मिनट से प्रारंभ होंगे और यह अगले दिन 19 अप्रैल को सुबह 05 बजकर 06 मिनट तक रहेंगे.

 

घटस्थापना का शुभ मुहूर्त 2024 

 

चैत्र कृष्ण प्रतिपदा तिथि पर घटस्थापना के बाद ही नवरात्रि के व्रत प्रारंभ होते हैं. इस साल चैत्र नवरात्रि पर घटस्थापना के दो शुभ मुहूर्त बन रहे हैं.

 

1. पहला शुभ मुहूर्त- 9 अप्रैल को सुबह 6 बजकर 11 मिनट से लेकर सुबह 10 बजकर 23 मिनट तक रहेगा.

 

2. अभिजीत मुहूर्त- सुबह 11 बजकर 57 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 48 मिनट तक अभिजीत मुहूर्त रहेगा.

 

घटस्थापना की सामग्री 

चैत्र नवरात्रि पर घटस्थापना के लिए कुछ आवश्यक सामग्री चाहिए. इसमें चौड़े लकड़ी की चौकी, मुंह वाला मिट्टी का एक बर्तन, पवित्र स्थान की मिट्टी, 7 प्रकार के अनाज, कलश, गंगाजल, कलावा या मौली, सुपारी, आम या अशोक के पत्ते, अक्षत (साबुत चावल), जटा वाला नारियल, लाल कपड़ा, पुष्प और पुष्पमाला.

 

घटस्थापना विधि 

पहले मिट्टी को चौड़े मुंह वाले बर्तन में रखें और उसमें सप्तधान्य बोएं. फिर उसके ऊपर कलश में जल भरें और उसके ऊपरी भाग (गर्दन) में कलावा बांधें. इसके बाद आम या अशोक के पल्लव को कलश के ऊपर रखें. अब नारियल को लाल कपड़े में लपेटकर कलश के ऊपर और पल्लव के बीच में रखें. इस नारियल में कलावा भी लपेटा होना चाहिए. घटस्थापना पूर्ण होने के बाद देवी का आह्वान करते हैं. आप चाहें तो अपनी इच्छानुसार और भी विधिवत पूजा कर सकते हैं. 

 

रिपोर्ट रघुनाथ प्रसाद शास्त्री 

आर पी एस न्यूज़
Author: आर पी एस न्यूज़

न्यूज़ और विज्ञापन के लिए संपर्क करें 9453 555 111 पर www. rpssmachar.com rpsnews.com Emeil -rpssamachar@gmail.com rpsnews@gmail.com

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

[wonderplugin_slider id=1]

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

error: Content is protected !!
Skip to content